SEO क्या है? ऑन-पेज, ऑफ-पेज और टेक्निकल एसईओ के बारे में पढ़े

जब आप गूगल पर कुछ सर्च करते हैं तो गूगल आपको 10 पेज में सर्च रिजल्ट दिखाता है लेकिन आप सिर्फ फर्स्ट पेज पर आई वेबसाइट्स पर ही क्लिक करते हैं। इसलिए यह जरूरी है की अगर आपका वेबसाइट या ब्लॉग है तो वो भी गूगल के पहले पेज पर रैंक करे वर्ना चांस है की दूसरे लोग भी आपके वेबसाइट पर क्लिक नहीं करेंगे। और ऐसा करने के लिए वेबसाइट का एसईओ (SEO) करना होता है ताकी गूगल जैसा सर्च इंजन आपकी वेबसाइट को पढ़ सके और अच्छी रैंकिंग दे।




seo kya hai featured image

SEO क्या होता है?

SEO का फुल फॉर्म सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन है। SEO उस प्रक्रिया को कहते है जिसे करके हम किसी वेबसाइट या ब्लॉग को ऐसे बनाते है की गूगल, बिंग जैसी सर्च इंजन वेबसाइट को पढ़ सके और इंडेक्स कर सके।

वेबसाइट या ब्लॉग का एसईओ (SEO) करना क्यों जरूरी है?

ऑनलाइन हमें कुछ भी सर्च करना हो, हम गूगल पर सर्च करते हैं। और अगर कोई चीज गूगल पर ना हो तो वो हम ऑनलाइन ढूंढने पर नहीं मिलेगी। तो अब आप सोचे अगर आपकी वेबसाइट गूगल पर ना हो, तो क्या वो ढूंढने पर मिलेगी? नहीं।

गूगल एक सर्च इंजन है। गूगल की तरह और भी सर्च इंजन है - बिंग, याहू, बाइडू, DuckDuckGo। पर दुनिया में सबसे ज्यादा सर्च गूगल पर ही किया जाता है। जब हम कोई शब्द गूगल पर टाइप करके सर्च करते हैं, गूगल उस वर्ड से सम्बंधित कंटेंट अपने डेटाबेस में ढूंढता है। जिन वेबपेजेस में वह कंटेंट मैच करता है, गूगल उन पेजेज की लिंक्स को सर्च इंजन रिजल्ट पेज (SERP) पर दिखाता है।

SEO के तीन प्रकार

ऑन-पेज एसईओ (On-Page SEO)

वेबपेज के एलिमेंट को सर्च इंजन और यूजर्स के लिए ऑप्टिमाइज करना ऑन-पेज SEO कहलाता है।

उदाहरण के लिए -

  • कम्पटीशन वाले कीवर्डस के लिए, टाइटल में सटीक कीवर्ड का इस्तेमाल करे
  • एक आर्टिकल के पहले 100-150 शब्दों में एक बार मुख्य कीवर्ड का प्रयोग करें
  • URL को छोटा बनाएं और हर URL में कीवर्ड शामिल करें
  • यदि संभव हो तो स्कीमा जोड़ें
  • स्टॉक फोटोज के बजाय कस्टम फोटोज का प्रयोग करें
  • आंतरिक लिंक का प्रयोग करें (use internal links)

ऑफ-पेज एसईओ (Off-Page SEO)

ऑफ-साइट SEO को ऑफ-साइट इसलिए कहते है क्यूंकि इसमें साड़ी टेक्निक्स वेबसाइट के बहार की जाती है। जैसे - अपनी वेबसाइट के लिए दूसरे वेबसाइट पर लिंक बनाना, अपने ब्रांड की पहचान बनाना, सभी पॉपुलर सोशल मीडिया पर अपने वेबसाइट की विजिबिलिटी बढ़ाना।

टेक्निकल एसईओ (Technical SEO)

टेक्निकल एसईओ या ऑन-साइट एसईओ वेबसाइट के उन टेक्निकल चीज़ों पर काम करना होता है जिससे पूरे वेबसाइट में इम्प्रूवमेंट आती है। इसमें ऐसे तरीको को अपनाया जाता है जिससे वेबसाइट के कोड और स्ट्रक्चर को बेहतर कर सके जिससे सर्च इंजन वेबसाइट को बेहतर समझे और उच्च रैंक दे।

टेक्निकल एसईओ के उदाहरण -

  • अपनी वेबसाइट का साइटमैप बनाएं और उसे सर्च इंजन में सबमिट करें
  • अगर वेबपेज का एड्रेस दूसरे एड्रेस पर परमानेंट चेंज होगया है तो उसे 301 कोड से रेडिरेक्ट करे
  • Screaming Frog, Google Search Console, Responsinator जैसे टेक्निकल SEO टूल्स का इस्तेमाल करे

सामान्य प्रश्न (FAQ)

SEO का फुल फॉर्म क्या है?

SEO का फुल फॉर्म सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन है।

क्या लोग सिर्फ गूगल पर ही सर्च करते है?

जी नहीं। गूगल के अलावा बिंग, याहू, यांडेक्स जैसे भी सर्च इंजन है जिनपर लोग ऑनलाइन सर्च कर सकते है।

SEO और SEM में क्या अंतर होता है?

SEO एक प्रोसेस है जिसे करने से वेबसाइट को सर्च इंजन इंडेक्स करता है और वेबसाइट को सर्च इंजन पर बेहतर रैंकिंग मिलती है।

SEM का फुल फॉर्म सर्च इंजन मार्केटिंग है। यह एक प्रक्रिया है जिससे हमारी वेबसाइट का विज्ञापन लोगों को ऑनलाइन सर्च करते वक्त सर्च इंजन रिजल्ट पेज पर दिखता है।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ